islamic ramzan shayari dp | इस्लामिक रमजान शायरी 2024

islamic ramzan shayari dp | इस्लामिक रमजान शायरी 2024

 

मैं आशिक अली बिहार से बिलॉन्ग करता हूं आपके लिए इस रमजान के महीने में दिल को मजबूत और इमान को ताज़ा करने के लिए खूबसूरत और islamic ramzan shayari dp लिखा हूं जो आपको बेहद पसंद आएगी

रमज़ान के महीने खुशियों का त्यौहार हैं| बारिश की बूंदों की तरह खुशियाँ बरसाते हैं।

 

 

रोजे रखने के लिए ताकत की जरूरत नहीं होती बल्कि नियत की जरूरत होती है| ❤️

 

रमजान सबर का महीना है | और सबर का बदला जन्नत है

 

जब वो राजी होता है| तो पूरे कायनात को वसीला बना देता है|

 

रसूलल्लाह ने फरमाया जब रमजान आती है| तो जन्नत का दरवाजा खोल दिया जाता है|

 

या अल्लाह तेरा शुक्र है| एक बार फिर रोजा नसीब फरमाया

 

रब का चाहिता बना है| तो खुद को साबित करो रोज में सब्र करके

 

 

क्या तू रब के बनाया हुआ मखलूक है तो रोजा रखके साबित कर

 

मैं देखना चाहता हूं क्या आप अपने रब से कितना मोहब्बत करते हैं रमजान में सब्र करके दिखाओ

 

इब्लीस तो रोकेगा ही रोजा रखके और सब्र करके तमाचा मारो

 

इब्लीस को दिखा दे रमजान में तुझे अपने रब सें कितना मोहब्बत है|

 

 

वसवसा डालने से यह बाज नहीं आने वाला तू भी रमजान में दिखा दे कि रब की इबादत से हम भी बाज नहीं आने वाला

 

 

ऐ इब्लीस मुझमें इतनी ताकत हैं | कि रमजान में तो क्या जान भी हाजिर🌹 मेरे रब्बुल आलमीन के लिए है |

 

रमजान में खुद को साबित करने का बेहतर मौका मत गमाईए दोस्त फिर जिंदा रहे या ना रहे

 

मेरा रब कहता है| रोजा मोमिन का पहचान है|

 

रब ने हमारे लिए चांद सूरज हवा पानी बनाई क्या हम रमजान में रब की इबादत के लिए सब्र नहीं कर सते

 

 

दोस्तों हम आशा करते हैं| islamic ramzan shayari dp आपको बेहद पसंद आई होगी अगर आपके पास भी कोई शायरी है| तो आप कमेंट में बेझिझक बता सकते हैं

 

Leave a comment