islamic quotes | इस्लाम धर्म कितना पुराना है|

islamic quotes | इस्लाम धर्म कितना पुराना है|

इस्लाम धर्म कितना पुराना है|

इस्लाम धर्म की रहस्य की सच्चाई ये हैं| की हजरत मोहम्मद सल्ल सें इस्लाम धर्म की सुरू आती नहीं हूई बल्कि जब सें ये दुनिया बनी हैं| तब सें लेकर दुनिया खत्म होने तक इस्लाम रहेगी

 

क़ुरान के मुताबिक हजरत आदम अलीसलाम दुनिया के सबसे पहले इंसान थे जो अल्लाह के बंदे और मैगंबर भी रहे उस समय में भी इस्लाम था लेकिन इसका कोई नाम न था उस वक़्त के मैगंबर हजरत आदम अलीसलाम जोकि सबसे पहले ( मैगंबर )

 

उस वक़्त भी लोग अपने सच्चे खुदा को छोड़ कर भूत परस्ती करते थे लोगों को सयतान भटकना सुरु कर दिया था धीरे – धीरे बेहयाई हदसे बढ़ने लगी भीर फिर लोगों को सही रास्ता दिखाने के लिए हजरत आदम अलीसलाम को अल्लाह नें मैगंबर का दरजा प्रदान किया

 

और वह लोगों को समझाते रहे लोगों को बताते रहे कि अल्लाह एक हैं| उसके सिवा कोई इबादत के लायक नहीं हैं| सब मुल्क उसी का हैं| वही जिंदगी और मौत देती हैं| लेकिन उस समय में भी कुछ लोग ईमान लाया और मुसलमान हो गया लेकिन ( इस्लाम, मुस्लिम ) नाम 1400 साल में परी

 

 इससे पहले अल्लाह नें हदीस के मुताबिक 1,02400 मैगंबर को भेजे जिसमे सें क़ुरान में जिक्र मिलता हैं| हज़रत आदम , – हजरत नूह – हजरत सालेह – हजरत इब्राहिम – हजरत मूसा – हजरत लूत – Hazrat Yunus – हजरत सुलेमान – हजरत ईसा – Hazrat Mohammad Mustafa – हजरत मोहम्मद मुस्तफा – ये सभी मैगंबरो नें कठिनाइयों को झेलते हुए लोगों को सही मार्ग ( मंजिल – रस्ता ) दिखाएं बस यही कारण है| कि जो सबसे आखरी मैगंबर – ( हजरत मोहम्मद मुस्तफा ) सबसे आखिर अंत में आए तो शैतान से लड़ने का यूं कहे छोटा से छोटा और बड़ा से बड़ा बुराई ( गुणाह , पाप ) से लड़ने का और जिसने हम सबको बनाइये एक शास्त्र बनाएं या हम यूं कहें एक धर्म बनाई जिसका नाम – इस्लाम धर्म के नाम से जानते हैं|

 

 

Leave a comment